स्पेनिश फुटबॉल क्लब सीडी लिगानेस में दम दिखा रहे नोएडा के आर्यन

नोएडा। खेलरत्न सं : Time, 10:00, PM.
सेक्टर-44 के आर्यन गुप्ता स्पेनिश फुटबॉल क्लब सीडी लिगानेस से दम दिखा रहे हैं। वह इस अंडर-23 टीम के सदस्य हैं और 2018-19 के लिए टीम से जुड़े हैं। पांच वर्ष की उम्र से फुटबॉल में रुझान रखने वाला यह खिलाड़ी स्कूली स्तर पर कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में प्रतिभा प्रदर्शित कर चुका है।

अभ्यास के दौरान आर्यन गुप्ता

आर्यन गुप्ता स्पेनिश लीग के फर्स्ट डिवीजन टूर्नामेंट में खेल रहे हैं। इससे पहले भी वह दो क्लबों से सेकेंड डिवीजन टूर्नामेंट खेल चुके हैं। वह स्पेनिश लीग खेलने वाले भारत के चौथे आधिकारिक खिलाड़ी हैं। करीब पांच वर्ष की उम्र से फुटबॉल की शुरुआत करने वाले आर्यन पर भारत के भी कई सीनियर क्लबों की नजर है। उन्होंने प्रोफेशनल फुटबॉल प्रशिक्षण की शुरुआत स्टीव मैकमोहन एकेडमी से की। आर्यन के पिता मोहित गुप्ता ने बताया कि भारत के कई फुटबॉल क्लबों से यहां के टूर्नामेंट खेलने की बात चल रही है। इसमें आईएसएल और आई लीग की टीमें हैं। हालांकि अभी तक पूरी तरह से स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है। भविष्य में भी बेटे से काफी उम्मीदें हैं।

सेंटर फारवर्ड पोजिशन से खेलते हैं आर्यन
शहर से फुटबॉल का गुर स्पेन पहुंचा यह खिलाड़ सेंट्रल फॉरवर्ड के रूप में खेलता है। इसके अलावा वह राइट व लेफ्ट विंग से भी खेल चुके हैं। आर्यन गुप्ता 2017 में स्पेन के एलकॉरकॉन फुटबॉल क्लब की अंडर-18 टीम में थे। इसके बाद उन्होंने 2018 में यूबी कॉनक्वेंस से अंडर-23 प्रतियोगिता में भाग लिया। आर्यन का भारत के स्कूल नेशनल, सीबीएसई नेशनल आदि प्रतियोगिता में भी शानदार प्रदर्शन कर अपनी प्रतिभा प्रदर्शित कर चुके हैं। एपीजे स्कूल की ओर से खेलते हुए इस फुटबॉलर ने टीम को सीबीएसई क्लस्टर ईस्ट जोन का विजेता बनाया था। इसके बाद टीम नेशनल के लिए क्वालीफाई हुई थी। इसी वर्ष उन्होंने स्कूल नेशनल भी खेला। एसजीएफआई की राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भी इस खिलाड़ी ने बेहतर प्रदर्शन किया। इसके अलावा उन्होंने स्पेन, स्वीडन आदि देशों के महत्वपूर्ण टूर्नामेंट में भी भाग लिया।

आर्यन गुप्ता

लिगानेस स्पेन के पुराने क्लबों में शुमार
सीडी निगानेस स्पेन के पुराने फुटबॉल क्लबों में शुमार है। इस क्लब की स्थापना 1928 में हुई थी। यह टीम ला लीगा टूर्नामेंट में खेलती है। जो स्पेन का सबसे बड़ा फुटबॉल टूर्नामेंट है। इस क्लब का अलग-अलग आयुवर्गों में भी टीमें हैं। आर्यन भी अंडर-23 टीम के खिलाड़ी हैं।

ओलंपिक पदक विजेता राज्यवर्धन राठौर से मिली प्रेरणा
आर्यन के पिता मोहित गुप्ता ने बताया कि ओलंपिक पदक विजेता और पूर्व केंद्रीय खेल मंत्री राज्वर्धन सिंह राठौर मेरे मित्र हैं। उन्हीं से प्रेरणा लेते हुए बेटे ने फुटबॉल की शुरुआत की। वह मुझे खेल से संबंधित कई सलाह भी देते हैं। जो बेटे के करियर को निखारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

Leave a Reply