खेल विभाग के नोटिस के बावजूद स्केटिंग प्रतियोगिता हुई, कार्रवाई होगी

-खेल विभाग आयोजकों पर कार्रवाई करेगा
फर्जी खेलों का आयोजन किया तो होगी कार्रवाई
नोएडा। खेलरत्न, सं : Time, 12:30, am.
फर्जी खेल प्रतियोगिताएं आयोजित कराने वाले लोगों की अब खैर नहीं। ऐसे आयोजन कराने वाली संस्थाओं, स्कूलों आदि पर खेल विभाग कार्रवाई करेगा। शनिवार को एक निजी स्कूल में भी फर्जी स्केटिंग प्रतियोगिता आयोजित की गई। खेल विभाग प्रतियोगिता के आयोजकों पर कार्रवाई की तैयारी कर रहा है। हद तो तब हो गई कि इस प्रतियोगिता को न कराने के लिए खेल विभाग के नोटिस के बाद भी इसका आयोजन हुआ। इसकी शिकायत यूपी रोलर स्पोर्ट्स संघ ने खेल विभाग से की थी।

file photo

सेक्टर-122 स्थित ग्लोबल राघव स्कूल में 17 फरवरी को स्केटिंग प्रतियोगिता आयोजित हुई। प्रतियोगिता का एक वीडियो भी खेल विभाग को दिया गया है। 50 सेकेंड के इस वीडियो में स्केटर चार बार गिरते दिखे हैं। यानि स्केटिंग रिंक मानकों के अनुसार नहीं थी। इस वीडियो में लोग यह भी कहते दिख रहे हैं कि ‘शायद ज्यादा चोट लग है। कहीं हड्डियां न टूट गई हों’। प्रतियोगिता से पहले इस आयोजन को रोकने के लिए यूपी रोलर स्पोर्ट्स संघ ने खेल विभाग से शिकायत की थी। जिसपर खेल विभाग ने ग्लोबल राघव स्कूल प्रबंधन को एक नोटिस भी जारी किया था। बावजूद इसके खेल का आयोजन हुआ।

‘नोटिस जारी करने के बाद भी स्कूल में यह आयोजन हुआ। जिसे गंभीरता से लिया गया है। संबंधित स्कूल और आयोजक पर कार्रवाई जाएगी। इस संबंध में जिलाधिकारी के निर्देश के बाद कार्रवाई की जाएगी। फर्जी खेल आयोजन को रोकना हमारी प्राथमिकताओं में है।’
अनिता नागर, क्रीड़ा अधिकारी

आयोजन रोकने के लिए नोटिस में ये सवाल पूछे थे
-ऐसी संस्थाओं के प्रमाण पत्र उपयोगी नहीं है, जो केंद्र, राज्य सरकारों के खेल संघों से न जुड़े हों
-इस टूर्नामेंट में आयोजन के लिए किसने अनुमति दी
-स्केटिंग प्रतियोगिता में सुरक्षा मानक काफी अहम है। ऐसे में अगर कोई घटना होती है तो स्कूल पर कार्रवाई होगी
-लिहाजा यह प्रतियोगिता अवैध है। इसके लिए खेल विभाग अनुमति नहीं दे सकता।
-आयोजक एक खिलाड़ी के भाग लेने के लिए 300 रुपये लिए। इसके लिए कौन जिम्मेदार है

कई फर्जी खेलों का आयोजन हो रहा है शहर में
महज स्केटिंग में ही नहीं बल्कि फर्जी तरीके से कई खेलों का आयोजन शहर में हो रहा है। अभी ओलंपिक के तर्ज पर कई खेलों का आयोजन का दावा एक संस्था ने किया था, लेकिन बिना खेलाए उन्हें प्रमाण पत्र दे दिया गया। स्केटिंग के अलावा कराटे में सबसे अधिक फर्जीवाड़ा चल रहा है। इनके अलावा कई अन्य खेलों का भी आयोजन बिना अनुमति हो रहा है।

Leave a Reply