कार्तिक ने जु जित्सु में बनाया कीर्तिमान, देश को पहला पदक दिलाया

-विश्व जु जित्सु चैंपियनशिप के पैरा नेवाजा स्पर्धा में शहर के इस खिलाड़ी ने रजत जीता
-जन्म से मूक बधिर हैं कार्तिक छह साल से इस खेल से जुड़े हुए हैं
नोएडा। खेलरत्न, सं, Time, 11:50, PM.
शहर के कार्तिक वर्मा ने नोएडा के नाम विश्वपटल पर स्थापित कर दिया है। इस खिलाड़ी ने विश्व जु जित्सु चैंपियनशिप में रजत पदक जीतकर इतिहास रचा है। इस खेल के किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक दिलाने वाले वह भारत के पहले खिलाड़ी बन गए हैं। 5 मार्च को अबुधाबी में समाप्त हुई प्रतियोगिता में इस खिलाड़ी ने पैरा नेवाजा स्पर्धा में यह उपलब्धि हासिल की।विश्व चैंपियनशिप में उनके बेहतर प्रदर्शन को देखते हुए प्रदेश जुजित्सु संघ ने उन्हें सम्मानित करने की घोषणा की है।

विश्व जु जित्सु प्रतियोगिता के दौरान पदक के साथ कार्तिक

जन्म से ही मूक बधिर कार्तिक ने प्रतियोगिता में शानदार प्रतियोगिता करते हुए अपनी काबिलियत साबित की। यह स्वर्ण पदक के भी प्रबल दावेदार थे, लेकिन कड़े मुकाबले में उन्हें ईरान के खिलाड़ी से हार का सामना करना पड़ा। सेक्टर-19 के इस खिलाड़ी ने सबसे पहले कराटे का प्रशिक्षण लिया। इसके बाद उन्होंने ताइक्वांडो में अपने हाथ आजमाए। दोनों खेल के छूटने के बाद वह जु जित्सु में रम गए। मार्शल आर्ट्स का ही अंग होने के कारण इस खेल की तकनीक को अपनाने में कार्तिक को ज्यादा दिक्कत नहीं आई। कार्तिक के पिता आशीष वर्मा ने बताया कि कार्तिक ने विश्व चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन कर हमें गौरवान्वित किया है। भविष्य में भी देश को बेटा पदक जरुर दिलाएगा। प्रदेश जु जित्सु संघ के अध्यक्ष अमित गुप्ता और सचिव अमित अरोड़ा ने कार्तिक के प्रदर्शन की सराहना करते हुए कहा कि इस खेल में देश को पहला पदक मिला है। भारत में इस खेल का विस्तार जरुर होगा। राष्ट्रीय खेल और अन्य प्रतियोगिताओं में इस खेल को शामिल किया जाना चाहिए।

एशियाई खेल का हिस्सा है जु जित्सु
इंडोनिशया में होने वाले एशियाई खेल में जुजित्सु को भी शामिल किया गया है। राष्ट्रमंडल खेल में भी इस खेल को रखा गया है। ओलंपिक में इसे लाने की तैयारी चल रही है। वहीं राष्ट्रीय खेल, स्कूल खेल, आदि में भी इसे शामिल किया जा सकता है। खिलाड़ियों के प्रदर्शन के आधार पर यह निर्णय लिया जा सकता है।

मार्शल आर्ट का एक रूप है यह खेल
मार्शल आर्ट से जुड़े कराटे, जूडो आदि खेलों की तरह ही जु जित्सु है। इसमें दो स्पर्धाएं होती हैं। कॉम्बैट और नेवाजा स्पर्धा में खिलाड़ी भाग लेते हैं। नेवाजा में जमीन पर गिरने के बाद प्रतिद्वंदी से बचाव की विभिन्न तकनीकों को बताना पड़ता है। इसी के अनुसार खिलाड़ियों को अंक दिए जाते हैं। कार्तिक ने नेवाजा स्पर्धा में रजत पदक जीता है।

Leave a Reply