नोएडा के ध्रुव जुरेल को भारतीय अंडर-19 टीम की कमान

नोएडा। खेलरत्न, सं : Time, 11 :00, PM.
यूथ एशिया कप अंडर-19 क्रिकेट चैंपियनशिप के लिए टीम इंडिया के कप्तान नोएडा के ध्रुव जुरेल को बनाया गया है। इससे पहले भी वह भारतीय क्रिकेट टीम के लिए दो सीरीज खेल चुके हैं। अंतरराष्ट्रीय और घरेलू क्रिकेट में उम्दा प्रदर्शन को देखते हुए चयन समिति ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी है। यूथ एशिया कप अंडर-19 श्रीलंका में खेला जाएगा।

 

ध्रुव जुरेल

भारतीय अंडर-19 टीम के कप्तान ध्रुव जुरेल को नोएडा ने टीम इंडिया का रास्ता दिखाया। मूल रूप से आगरा निवासी यह क्रिकेटर करीब तीन साल से सेक्टर-34 स्थित वंडर्स क्रिकेट एकेडमी में खेल की बारीकियां सीख रहा है। इससे पहले वह यूपी अंडर-14 और 16 का भी प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। उस दौरान वह आगरा में ही थे, लेकिन आगरा में अधिक मैच और अभ्यास के लिए समय नहीं मिल पाता था। ऐसे में उन्होंने नोएडा की तरफ रुख किया। आगरा के कई क्रिकेटर पहले से यहां खेल का प्रशिक्षण ले रहे थे, जिन्होंने ध्रुव को नोएडा आकर अभ्यास करने की सलाह दी।

 

ध्रुव जुरेल

विकेटकीपर बल्लेबाज ध्रुव बताते हैं कि नोएडा आने के बाद उनकी किस्मत बदली। ध्रुव ने बताया कि नोएडा में अधिक से अधिक क्रिकेट टूर्नामेंट खेलने का मौका मिला। साथ ही प्रशिक्षक फूलचंद शर्मा का भी विशेष योगदान रहा। यहां आने के बाद यूपी अंडर-19 और टीम इंडिया में जगह मिली। अब मैं भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया हूं। मुझे बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। बेहतर प्रदर्शन कर जिम्मेदारी का निर्वहन करने की पूरी कोशिश करुंगा। क्रिकेट करियर में यह मेरे लिए सबसे सुखद क्षण हैं।

 

ध्रुव बचपन में (बीच में) अपने पिता नेम सिंह जुरेल और मां रजनी जुरेल के साथ

इंग्लैंड में भी शानदार प्रदर्शन
ध्रुव जुरेल वर्तमान में इंग्लैंड में हैं। वह बांग्लादेश और इंग्लैंड के साथ चल रही त्रिकोणीय श्रृखंला खेल रहे हैं। इस प्रतियोगिता में उन्होंने शानदार प्रदर्शन भी किया है। उन्होंने इस सीरीज में नाबाद 52, 37 और 34 गेंदों में 49 रनों की पारी खेली है। इसके अलावा विकेट के पीछे भी उनका शानदार प्रदर्शन रहा। इसी को देखते हुए उन्हें यूथ एशिया कप के लिए भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान चुना गया। मार्च में वह पहली बार भारतीय अंडर-19 टीम के लिए चुने गए। तीसरी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में ही उन्हें टीम का कप्तान बना दिया गया।

‘बेटे को भारतीय टीम की कमान मिलना सपने सच होने जैसा है। मैंने हमेशा उसे कर्म करने की बात कही। अगर कड़ी मेहनत करते हैं तो परिणाम भी सकारात्मक होते हैं। ध्रुव से यूथ एशिया कप में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है।’
नेम सिंह जुरेल, ध्रुव के पिता

‘ध्रुव की मेहनत रंग लाई। मैं काफी भाग्यशाली हूं कि मुझे तीन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों का प्रशिक्षक होने गौरव मिला। इससे पहले शिवम, हर्ष ने भी अपने बेहतर खेल से शहर का नाम रोशन किया है। यहां के क्रिकेटरों के खेल को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि भविष्य में भी नोएडा से कई क्रिकेटर टीम इंडिया में होंगे।’
फूलचंद शर्मा, ध्रुव के प्रशिक्षक

‘ध्रुव काफी मेहनती हैं और क्रिकेट ग्राउंड पर उसका जज्बा देखते ही बनता है। अच्छी विकेट कीपिंग के साथ ही एक उम्दा बल्लेबाज है। जो उसके खेल को और भी निखार देता है।’
शिवम मावी, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर

‘ध्रुव काफी अच्छे खिलाड़ी और सरल इंसान हैं। वह आक्रामक बल्लेबाजी पर विश्वास करते हैं। जो उनका क्रिकेट का सकारात्मक पहलू है।’
बॉबी यादव, राष्ट्रीय क्रिकेटर

 

ध्रुव जुरेल अपने प्रशिक्षक फूलचंद शर्मा के साथ

उम्दा प्रदर्शन से चयनकर्ताओं को प्रभावित किया
बीसीसीआई की वन डे और चार दिवसीय अंडर-19 प्रतियोगिताओं में ध्रुव जुरेल ने 22 पारियों में 1010 रन ठोके। इसमें तीन शतक और दो अर्धशतक शामिल हैं। ध्रुव ने विकेट के पीछे से 55 बल्लेबाजों के कैच लपके। वहीं तीन रनआउट और पांच स्टंपिंग भी किए। यह आंकड़ा किसी भी विकेट कीपर बल्लेबाज के शानदार प्रदर्शन को दर्शाता है। ध्रुव ने कूच बिहार ट्रॉफी, वीनू मांकड़ ट्रॉफी और चैलेंजर ट्रॉफी में भाग लिया। इसी साल फरवरी में ध्रुव ने अंतरराष्ट्रीय चतुष्कोणीय श्रृखंला (अंतरराष्ट्रीय) में खेलते हुए तीन पारियों में 45, 40 और 40 रन बनाए और सात स्टंपिंग और कैच लपके।

तीन साल में तीन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर दे चुके हैं फूलचंद शर्मा
वंडर्स क्लब के मुख्य प्रशिक्षक फूलचंद शर्मा तीन साल में तीन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर दे चुके हैं। ध्रुव जुरेल से पहले दो और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर दिए हैं। इसमें शिवम मावी और हर्ष त्यागी शामिल हैं। शिवम ने विश्वकप अंडर-19 में देश का प्रतिनिधित्व किया। भारतीय टीम ने विश्वकप अपने नाम किया। इसमें शिवम का शानदार प्रदर्शन रहा। वहीं हर्ष त्यागी ने अंडर-19 एशिया कप में देश का प्रतिनिधित्व किया। इस प्रतियोगिता के फाइनल मुकाबले में वह मैन ऑफ द मैच चुने गए थे। इनके अलावा रेलवे रणजी के कप्तान अनुरीत सिंह, तन्मय श्रीवास्तव, बॉबी यादव सहित कई खिलाड़ियों ने फूलचंद शर्मा से खेल की बारीकियां सीखी हैं। वंडर्स क्रिकेट क्लब में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहीं तीन महिला खिलाड़ियों ने भी रणजी में यूपी का प्रतिनिधित्व किया। फूलचंद शर्मा 50 लड़कियों को निशुल्क क्रिकेट का प्रशिक्षण दे रहे हैं। तीन साल में इस क्लब के तीन खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला।

सरकार और प्रशासन कम से कम शाबाशी तो दे : फूलचंद शर्मा
शहर ने तीन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर दिए, लेकिन शाबाशी देने कोई नहीं आया। खेल विभाग ने तो हमारे किसी क्रिकेटर को सम्मानित भी नहीं किया। प्रदेश सरकार की ओर से भी कोई मदद नहीं मिली है। खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार और खेल विभाग को कम से कम पीठ जरुर थपथपाना चाहिए। ताकि उन्हें बेहतर खेल की प्रेरणा मिले। शिवम मावी के विश्वकप में आने के बाद जिला प्रशासन ने कार्यालय में बुलाकर स्वागत किया था। जन प्रतिनिधियों का भी पूरा सहयोग हमें नहीं मिला।

Leave a Reply