खेल विभाग देगा वैध और अवैध खेल संघों की जानकारी

-खेल संघों के साथ 21 फरवरी को बैठक करेगा खेल विभाग
नोएडा। खेलरत्न, सं, Time, 8:50, PM.
खेल प्रतियोगिताओं के अवैध आयोजनों पर शिकंजा कसने के लिए खेल विभाग ने कमर कस ली है। बुधवार को इस संबंध में खेल संघों के पदाधिकारियों के साथ खेल विभाग बैठक करेगा। इस बैठक में वैध और अवैध खेल संघों की जानकारी दी जाएगी। ताकि भविष्य में फर्जी प्रतियोगिताओं पर पूरी तरह से रोक लगाई जा सके। वहीं इस बारे में स्कूल, खिलाड़ियों, प्रशिक्षकों, अभिभावकों आदि को भी जागरुक किया जाएगा। खेल विभाग द्वारा नोटिस दिए जाने के बाद भी सेक्टर-122 के एक स्कूल में स्केटिंग प्रतियोगिता आयोजित की गई, जिसे विभाग ने गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की बात कही है। इस संबंध में कई नए नियम भी बनाए जा सकते हैं।

file photo

खेल विभाग केंद्र और राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त खेल संघों की सूची निकालेगा। इसके बाद खेल संघों से प्राप्त लिखित दस्वावेजों के आधार पर आयोजन संबंधी नए नियम बना सकता है। वहीं बैठक के बाद भविष्य के लिए योजना तैयार की जाएगी। ताकि बिना मान्यता प्राप्त खेल आयोजनों पर रोक लगाई जा सके। सबसे अधिक फर्जीवाड़ा स्केटिंग, कराटे, बैडमिंटन, आदि खेलों में हो रहे हैं। जिससे आयोजक अच्छी खासी रकम कमाते हैं। कई बार तो बिना प्रतियोगिता ही पुरस्कार देने का मामला भी संज्ञान में आया है। जो खेल और खेल प्रतिभाओं के लिहाज से काफी गंभीर मामला है।

‘खेल संघों के पदाधिकारियों के साथ होने वाली बैठक के बाद ही भविष्य की रणनीति स्पष्ट हो पाएगी, लेकिन यह जरुर है कि अवैध खेल प्रतियोगिताओं पर अब अंकुश लगेगा। ताकि सही खेल प्रशिक्षक, खिलाड़ी और संस्थाओं को सम्मान मिल सके।’
अनिता नागर, क्रीड़ा अधिकारी,

रोलर स्केटिंग में होती हैं 10 स्पर्धाएं
रोलर स्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया स्केटिंग से संबंधित 10 स्पर्धाओं के आयोजन के लिए मान्य संस्था है। इससे संबद्ध राज्य और जिला स्तर की संस्थाएं ही प्रतियोगिता आयोजित करा सकती हैं या उनके संयुक्त तत्वावधान में दूसरी संस्था शामिल हो सकती है। रोलर स्केटिंग में स्पीड, रोलर हॉकी, आर्टटिस्टिक, इनलाइन हॉकी, फ्री स्टाइल, डाउनहील, स्लालम, स्केट बोर्डिंग, इनलाइन फ्री स्टाइल और रोलर डर्बी स्पर्धाएं शामिल हैं। इसके अलावा अन्य स्पर्धाएं अवैध हैं।

केंद्रीय खेल मंत्रालय से मान्यता प्राप्त इन संघों से संबद्ध स्थानीय संस्थाएं करा सकती हैं प्रतियोगिताएं,

भारतीय एमेच्योर सॉफ्ट टेनिस महासंघ, भारतीय एथलेटिक्स महासंघ, भारतीय अट्या पट्या महांसघ, भारतीय बैडमिंटन संघ, भारतीय बॉल बैडमिंटन महासंघ, भारतीय एमेच्योर बेसबॉल महासंघ, भारतीय बास्केटबॉल महासंघ, भारतीय बिलियर्ड्स एंड स्नूकर महासंघ, भारतीय बॉडी बिल्डर्स महासंघ, भारतीय मुक्केबाजी महासंघ,भारतीय ब्रिज महासंघ, अखिल भारतीय कैरम महासंघ, अखिल भारतीय शतरंज महासंघ, भारतीय साइक्लिंग महासंघ, अखिल भारतीय मूक-बधिर खेल परिषद, भारतीय एक्वेस्ट्रियन महासंघ, भारतीय तलवारबाजी संघ,

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ, भारतीय गोल्फ यूनियन, भारतीय हैंडबॉल महासंघ, हॉकी इंडिया, भारतीय एमेच्योर कबड्डी महासंघ, भारतीय कयाकिंग और केनोइंग संघ, भारतीय कराटे संघ, भारतीय खो-खो महासंघ, भारतीय नेटबॉल महासंघ, भारतीय मलखंभ महासंघ, भारतीय मोटर्स क्लब महासंघ, अखिल भारतीय टेनिस संघ, भारतीय पैरालिंपिंक समिति, भारतीय पोलो संघ, भारतीय रोइंग महासंघ, भारतीय रग्बी फुटबॉल यूनियन, भारतीय स्कूल खेल महासंघ,

भारतीय सेपकटेकरॉ महासंघ, राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन, भारतीय सॉफ्टबॉल संघ, स्पेशल ओलंपिक भारत, भारतीय स्क्वैश रैकेट महासंघ, भारतीय तैराकी महासंघ, भारतीय टेबल टेनिस महासंघ, भारतीय टेनी कोइट महासंघ, भारतीय टेनपिन बॉलिंग महासंघ, भारतीय ट्राइथलोन महासंघ, भारतीय टग ऑफ वार महासंघ, भारतीय वॉलीबॉल महासंघ, भारतीय भारोत्तोलन महासंघ, भारतीय कुश्ती महासंघ, भारतीय वुशु संघ, भारतीय रोलर स्केटिंग महासंघ, भारतीय रोलबॉल महासंघ, भारतीय सॉफ्टबॉल संघ, भारतीय याचिंग संघ, भारतीय पी सलट महासंघ को खेल मंत्रालय से मान्यता प्राप्त हैं।

मान्यता प्राप्त क्षेत्रीय खेल महासंघ
भारतीय स्के महासंघ, भारतीय कलारिप्पयट्टु महासंघ

भारतीय खेल संवर्धन संस्थाएं
जवाहरलाल नेहरू हॉकी टूर्नामेंट सोसाइटी, सुब्रतो मुखर्जी स्पोर्ट्स एजुकेशन सोसाइटी, भारतीय आइस हॉकी संघ, एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज, सीबीएसई

Leave a Reply