नए विश्व कीर्तिमान के लिए कंचनजंगा की ओर बढ़े अर्जुन

-फतह पर विश्व के सबसे काम उम्र के पर्वतारोही होंगे 23  वर्षीय अर्जुन

नॉएडा, खेलरत्न :
विश्व की तीसरी सबसे ऊंची चोटी कंचनजंगा पर फतह के लिए अर्जुन वाजपेई शनिवार को काठमांडू से रवाना हुए. 8586 मीटर ऊंची इस  पर चोटी चढ़ाई के अभियान में विभिन्न देशों के 12   शामिल हैं. इसमें  भारतीय मूल के एकमात्र पर्वतारोही अर्जुन हैं. पहली बार वह अपने दाल का नेतृत्वा कर रहे हैं. इससे पहले शहर का यह पर्वतारोही 8000 मीटर से ऊंची 5  चोटियों पर चढ़ाई कर चुके हैं. अगर वह कंचनजंगा पर फतह करने में सफल होते हैं तो उनके नाम इस चोटी पर सबसे काम उम्र में चढ़ने का विश्व रिकॉर्ड होगा।
इससे पहले अर्जुन एवरेस्ट , मनासलु , ल्होत्से, चो यू , मकालू चोटी पर फतह कर कई रिकॉर्ड स्थापित कर चुके हैं. अर्जुन अगर इस चोटी पर चढ़ने में सफल होते हैं तो वह 8000 मीटर से ऊंची छह चोटिओं पर फतह करनेवाले पहले भारतीय होंगे. अर्जुन बताते हैं कि इस बार अभ्यं के दौरान  हम एक वृत्तचित्र भी बनाएंगे इसके लिए पेशेवर लोगों की टीम काम करेगी. बेस कैंप तक ये लोग रहेंगे इसके बाद पर्वतारोही वीडियो शूट करेंगे, इसके लिए शेरपा को भी प्रशिक्षित किया गया है. टीम में स्विट्ज़रलैंड, जर्मनी, नेपाल आदि देशों के पर्वतारोही हैं.  शेरपा लड़कियां भी पर्वतारोहण करेंगी.
12  सदस्यीय टीम के कॅप्टन होंगे अर्जुन 
पहली बार अर्जुन पर्वतारोहण दल का नेतृत्व कर रहे हैं. ऐसे में उनके लिए यह अभियान काफी मायने रखता है. क्योंकि इन्हीके निर्देश पर आगे बढ़ना है. मौसम की जानकारी, खानपान, चढाई  का समय निर्धारण, शेरपाओं का प्रबंधन, आपातकालीन स्थिति में टीम का बचाव और सटीक निर्देश देने का काम अर्जुन करेंगे. कहीं न कहीं छोटी पर फतह की सफलता भी इनपर ही निर्भर करेगी. ऐसे में अन्य अभियानों की तुलना में यह अभियान अर्जुन के लिए अहम् होगा.
 पर्वतारोहण के लिहाज़ तीसरी सबसे दुर्गम चोटी है कंचनजंगा 
यह चोटी चढ़ाई के लिहाज़ से तीसरी सबसे खतरनाक चोटी है. इस छोटी पर 187 पर्वतारोही ने चढ़ाई की या प्रयास किया।   इसमें से 40 की मौत हो गई. के-2 , अन्नपूर्णा के बाद कंचनजंगा पर फतह करना सबसे मुश्किल है. लिहाज़ा अर्जुन के लिए इसपर सफलतापूर्वक चढ़ाई करना मुश्किलों से भरा होगा. नुकीली चोटियां, खाई, बर्फभरी पर्वतारोहियों की मुश्किल बढ़ा सकती है , लेकिन  छोटी उम्र ही सही अर्जुन का पर्वतारोहण का लम्बा अनुभव   इस अभियान को पार  लगाने में काम आएगा .

One thought on “नए विश्व कीर्तिमान के लिए कंचनजंगा की ओर बढ़े अर्जुन

  • April 9, 2017 at 2:49 am
    Permalink

    It’s a good story about arjun Vajpai kanchanjanga summit to going on.

    Reply

Leave a Reply