‘ऊर्जा’ से ऊर्जावान फुटबॉलर तलाशेगी केंद्र सरकार 

-केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल को दी गई है फुटबाल प्रतियोगिता के आयोजन की जिम्मेदारी

-दिल्ली के नेहरू स्टेडियम में शनिवार से शुरू हुई प्रतियोगिता
-अंडर-19 लड़के और लड़कियों की 8 -8 टीम हिस्सा लेंगी

नई  दिल्ली, खेलरत्न, सं:
केंद्र सरकार ऊर्जा टैलेंट हंट से प्रतिभावान फुटबॉलरों की तलाश करेगी. इसके लिए पहले राज्य, जोन और राष्ट्रीय स्तर  पर प्रतियोगिताओं  का आयोजन होगा. दिल्ली के नेहरू स्टेडियम में इसकी शुरुआत पहली मई से हुई है. शनिवार को भी मैच खेले गए.इस दौरान भारतीय महिला टीम के पूर्व मुख्य प्रशिक्षक अनादि बरुआ मुख्या अतिथि के रूप में मौजूद रहे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खेल प्रतिभाओं को हमेशा प्रोत्साहन देते रहे हैं, ऐसे में प्रधानमंत्री कार्यालय की देखरेख में सभी  टूर्नामेंट का आयोजन होगा. प्रतियोगिता के आयोजन और चयन की जिम्मेदारी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल को दी गई है.
नेहरू स्टेडियम में खिलड़ियों के साथ पूर्व अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर अनादि बरुआ और विलियम
 दिल्ली राज्य की  प्रतियोगिता में  अंडर 19 के लड़के और लड़कियों की 8-8 टीमें भाग ले रही हैं. यहाँ से दोनों  वर्गों की  1-1 टीम को चंडीगढ़ में 8 जून से होनेवाली  जोनल फुटबॉल प्रतियोगिता में भाग लेने का मौका मिलेगा. देश के प्रत्येक जोन से चयनित 2-2 टीम दिल्ली में जुलाई में  होनेवाली राष्ट्रीय प्रतियोगिता में दमखम दिखाएगी. इस प्रतियोगिता के माध्यम से होनहार फुटबॉलरों का चयन किया जाएगा. विश्व कप अंडर 17 फुटबॉल में भी निर्धारित  उम्र के तहत आनेवाले खिलाड़िओं को भी मौका मिल सकता है.
पहली बार सैन्य संस्थाओं को मिला प्रतियोगिता आयोजन और चयन की जिम्मेदारी 
   यह पहला मौका है जब देश की सैन्य संस्थाओं  को प्रतियोगिता के आयोजन और चयन की जिम्मेदारी दी गई है. यह भी माना जा रहा है कि सैन्य संस्थाओं को यह जिम्मेदारी देने से आयोजन और चयन में पारदर्शिता बरती जाएगी. दिल्ली में शुरू हुई प्रतियोगिता में फुटबॉल क्लब, स्कूल खेल, केंद्रीय विद्यालय संगठन, और पब्लिक स्कूलों की प्रतियोगिताएं में शानदार प्रदर्शन करनेवाली टीमों को रखा गया है. लड़कियों और लड़कों की 4-4 टीमों को दो-दो समूह में बांटा  गया है. दोनों समूहों में पहले दो स्थान के टीमों के बीच सेमीफइनल मुकाबला खेला जायेगा. इसके बाद फाइनल होगा. दिल्ली में टूर्नामेंट के आयोजन की जिम्मेदारी केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल को दी गई है.
‘दिल्ली के तहत होनेवाली प्रतियोगिता का फाइनल 10  मई को होगा. फुटबॉल को बढ़ावा देने और सही प्रतिभा को तलाशने के लिए केंद्र सरकार का यह निर्णय सराहनीय है. खेलों को बढ़ावा देने के लिए सभी स्कूलों में खेल के मैदान होने चाहिए. साथ ही सही प्रशिक्षक और संसाधन की भी जरुरत है. इससे देश खेल में विश्व का सिरमौर बन सकता है.’
विलियम, इंस्पेक्टर सीआईएसएफ और टूर्नामेंट के तकनीकी प्रभारी
 
दिल्ली यूनाइटेड और आर्मी स्कूल जी जीते 
ऊर्जा टैलेंट हंट के तहत शनिवार को खेले गए मुकाबले में लड़कों के वर्ग में दिल्ली यूनाइटेड ने केंद्रीय विद्यालय को हराकर  जीत दर्ज की. वहीँ लड़कियों के वर्ग का मुकाबला आर्मी स्कूल ने अपने नाम किया. शाम को दो मुकाबले खेले जायेंगे. पहला मुकाबला लड़कियों के टीमों के बीच होगा, दूसरा लड़कों के वर्ग का मैच   होगा.

Leave a Reply