प्रतिद्वंदियों  को मात दे  40 खिलाडियों  ने बनाई   जिले  की टीम  में  जगह 

नॉएडा : खेल रत्न सं:
प्रदेश कराटे  चैंपियनशिप में 40  खिलाडी जनपद का प्रतिनिधितव करेंगे. रविवार  को सेक्टर 62 स्थित  इंडस वैली  आयोजित ट्रायल में 120  से अधिक खिलाड़िओं ने भाग लिया. चयनित खिलाड़िओं को 24  अप्रैल से लखनऊ में होनेवाली प्रदेश कराटे  प्रतियोगिता में भाग लेने का मौका मिलेगा.
सेक्टर 62 स्थित इंडस वैली स्कूल में आयोजित करते प्रतियोगिता में भाग लेती प्रतिभागी।
सेक्टर 62 स्थित इंडस वैली स्कूल में आयोजित करते प्रतियोगिता में भाग लेती प्रतिभागी।अंडर-8 में काता स्पर्धा के लिए एकांक्ष और वदिका का चयन किया गया। अंडर-9 में शौर्य चौहान, वदिका अनूप, अंडर-10 में अर्पिता, अभिषेक, अंडर-11 में अनुभव और रंजना, अंडर-12 में मिताली, राधेश्याम, अंडर-13 में समीप सांगा, अंडर-14-15 में ज्योति रानी, मोहम्मद साहिल, अंडर-16-17 में समीप सांगा, अंडर-15 में ज्योति राना सहित कई अन्य खिलाड़ियों का चयन किया गया। कुमिते स्पर्धा के लिए अंडर-10 में लविश, नेहा, गौतम, आन्वी, हर्षित आदि का चयन किया गया। अंडर-11 में हर्षित, मिति, अनुभव, अमन, राजू, अक्षित जनपद का प्रतिनिधित्व करेंगे। अंडर-12 में अंकिता, अंकुर, अजय यादव, पूजा, वैश्णवी, मानव गुप्ता, अंडर-13 में संध्या, निश्चय, सुरभि, आर्यन, अक्षांश आदि का चयन किया गया। इसके अलावा अन्य वर्गों के खिलाड़ियों के नामों की घोषणा की गई। जिला कराटे एसोसिएशन के महासचिव अमर चौहान ने बताया कि पहले स्थान पर रहने वाले सभी खिलाड़ी राज्य प्रतियोगिता में भाग लेंगे। इस मौके पर कराटे एसोसिएशन के संरक्षक अनूप खन्ना, इंडसवैली स्कूल की प्रधानाचार्य शिखा शर्मा, सर्वेश कुमार   मौजूद रहे ।

ओलिंपिक में जगह मिलने से बढ़ा क्रेज 

कराटे  को 2020  ओलिंपिक में शामिल किया गया है. ऐसे में इस खेल को बढ़ावा मिल रहा है. जनपद में इस खेल को खेलनेवाले 1000 से अधिक   खिलाडी हैं. जिला कराटे  संघ के महासचिव अमर चौहान बताते हैं कि  ओलिंपिक में इस खेल के आने के बाद कराटे  पर और भी ध्यान दिया जाने लगा है. अलग अलग संघों को एकजुट करने का काम चल रहा है ताकि हमारे खिलाडी भी शानदार प्रदर्शन के बल पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं में देश का प्रतिनिधितव कर सके.
भारत से शुरू हुआ यह खेल 
अमर चौहान बताते हैं की बहुत काम लोगों को मालूम है कि  कराटे  भारत से ही शुरू हुआ. इसे बौद्ध धर्म के अनुयायिओं ने शुरू किया. बौद्ध धर्म की शुरुआत भारत से ही हुआ. इसके बाद जापान , चीन, कोरिआ सहित कई देशों में इसका तेजी से फैलाव हुआ और करते अलग अलग नामों से जाना जाने लगा. सभी मार्शल आर्ट के अंग हैं. भारत में भी यह तेजी से बढ़ा. ओलिंपिक में इसका लाभ हमें मिल सकता है.
 

Leave a Reply