कपिल देव की टीम ने दोहा सेलिब्रिटी गोल्फ चैलेंज पर जमाया कब्जा

-नोएडा के गंगेश खेतान भी कपिल के ग्रुप में खेले
– विभिन्न देशों के में 88 गोल्फरों ने 22 समूह बनाकर प्रतियोगिता में भाग लिया
नई दिल्ली  : खेलरत्न, सं:
 कतर की राजधानी दोहा में खेली गई सेलिब्रिटी चैलेंज गोल्फ प्रतियोगिता में  पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर कपिल देव की टीम विजेता बनी। इस प्रतियोगिता में वह सेलिब्रिटी के रूप में खेले।  उनके समूह में गंगेश खेतान, कतर में भारत के राजदूत पी कुमारन और फजल काजी शामिल थे। 21 अप्रैल को समाप्त हुई प्रतियोगिता 18 होल की खेली गई। अंतरराष्ट्रीय आमंत्रण गोल्फ प्रतियोगिता में विभिन्न देशों के 88 गोल्फरों ने भाग लिया।
बीच में कपिलदेव बायीं ओर गंगेश खेतान
कपिल देव के समूह में नोएडा के गंगेश खेतान सबसे उम्रदराज गोल्फर रहे। कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके 64 वर्षीय गंगेश खेतान पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर कपिल देव के साथ पहले भी गोल्फ खेल चुके हैं। लिहाजा इस प्रतियोगिता में भी वह उनके साथ शामिल हुए। प्रतियोगिता में भारतीय गोल्फरों के समूह ने 13 अंडर खेलते हुए पहले स्थान पर कब्जा किया।  प्रतियोगिता में इन गोल्फरों के शानदार प्रदर्शन का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 18 होल को पूरा करने के लिए 8 बर्डी और एक ईगल भी खेला।
‘प्रतियोगिता में हमारे ग्रुप ने शानदार प्रदर्शन किया। कपिलदेव के साथ पहले भी कई प्रतियोगिता में भाग ले चुका हूं। ऐसे में इस प्रतियोगिता में भी अच्छा अनुभव रहा। भविष्य में भी बेहतर प्रदर्शन का प्रयास होगा।’
गंगेश खेतान, अंतरराष्ट्रीय गोल्फर
47 साल से गोल्फ खेल रहे हैं गंगेश
गंगेश खेतान 47 साल से अधिक समय से गोल्फ खेल रहे हैं। इस दौरान वह जूनियर से सीनियर वर्ग में कई बार राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में भाग ले चुके हैं। अब भी नियमित रूप से गोल्फ खेलते हैं। मूलरूप से उद्योगपति गंगेश खेतान खेल के रूप में गोल्फ को छोड़कर कोई अन्य विकल्प की ओर नहीं गए। ऑल इंडिया सीनियर्स गोल्फ चैंपियनशिप 2014 के वह विजेता रहे। उन्होंने इस प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन करते हुए पहला पायदान हासिल किया था। वहीं इस टूर्नामेंट में वह 5 बार उपविजेता रहे हैं।
स्क्रैंबल फोर्मेट से खेली गई प्रतियोगिता
18 होल की यह प्रतियोगिता स्क्रैंबल फोर्मेट के अनुसार खेली गई। इस फॉर्मेट के अनुसार एक समूह के चारों गोल्फर होल के लिए स्ट्रोक लगाते हैं, जिस गोल्फर की गेंद होल के सबसे नजदीक होती है।वहीं से अन्य गोल्फर भी होल के लिए स्ट्रोक लगाते हैं। इससे कम स्ट्रोक में ही गोल्फर होल पूरा कर लेते हैं।

Leave a Reply