विशेष : फुटबॉलर बेटी का सपना सच करने के लिए माँ  गढ़ रही मिट्टी के बर्तन 

फुटबॉल की हकीकत : 

– राष्ट्रीय फुटबॉलर गुंजा की माँ बेटी को आगे बढ़ने के लिए मिट्टी के बर्तन बना बेचती हैं
-पिंकी के पिता मज़दूरी करते हैं, यह अंतर्राष्ट्रीय महिला फुटबॉलर हैं
नोएडा, खेलरत्न, सं:
चाक पर बैठकर कुमकुम देवी मिटी के बर्तन को सुंदर रूप तो दे देतीं, लेकिन बेटी के भविष्य को गढ़ने को लेकर चिंतित हैं. भले ही वह एक पहर ही खाना खाएं, लेकिन बेटी के सपने को बिखरने नहीं देना चाहतीं. यही कारण है की नोएडा में प्रदेश महिला फुटबॉल ट्रायल में भी बेटी को प्रतिभा दिखाने के लिए भेजा.  महीनो से जुटाए कुछ रूपये बेटी को दिए. गुंजन  तीन साल प्रदेश टीम के लिए खेल चुकी हैं, लेकिन आर्थिक मदद के नाम पर कुछ नहीं मिला. बनारस की ही पिंकी की कहानी भी इनसे अलग नहीं है.  अंडर 16 में देश का प्रतिनिधित्व करने के बावजूद उन्हें मदद नहीं मिली. उनके पिता भी मज़दूरी कर इस उदीयमान खिलाडी के सपनो को जिन्दा रखे हुए हैं.

बाएं से दूसरी पिंकी और चौथे नंबर पर गुंजा
बनारस के नाथुपुर गांव  की गुंजन  के पिता की मृत्यु 2003 में ही हो गई थी. तब से आठ सदस्यीय परिवार की जिम्मेदारी कुमकुम देवी पर है. बेटी को स्कूल में फुटबॉल खेलने का शौक हुआ. देखते ही देखते वह प्रदेश टीम में शामिल हो गई. शुरू में तो माँ ने फुटबॉल खेलने से मना किया, लेकिन उसकी प्रतिभा देखकर उसका सहयोग करने लगी. लेकिन अब खेल में खर्च बढ़ रहा है, ऐसे में माँ की परेशानियां भी बढ़ी है. अंतर्राष्ट्रीय खिलाडी पिंकी के पिता राजेंद्र प्रसाद  भी मज़दूर हैं. लेकिन बेटी का साथ हमेशा दिया. दोनों खिलाड़ी सरकार  के असहयोगात्मक रवैये से नाराज हैं. दोनों की मदद बनारस के भैरव सिंह और कुछ हद तक प्रदेश फुटबॉल संघ करता है’ लेकिन यह नाकाफी है . प्रदेश की नई  सरकार से इन फुटबाल खिलाड़िओं को बेहतरी की उम्मीद है.
‘आखिर कबतक हमें सरकार का सहयोग मिलेगा. फुटबॉल खेलना आसान काम नहीं है. खिलाड़िओं को मदद और सहयोग मिले तो और भी अच्छा प्रदर्शन हो सकता है. ‘
पिंकी, अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर
‘हमारे पास पैसे होते तो कोई दिक्कत नहीं थी, लेकिन हम विपरीत परिस्थितियों में भी जीत के लिए जान लगा देते हैं. हमें मदद मिलनी चाहिए, नहीं तो ज्यादा दिन तक खेलना मुश्किल होगा.’
गुंजन  प्रजापति. राष्ट्रीय फुटबॉलर
प्रदेश टीम के ट्रायल में भाग लेतीं खिलाड़ी
प्रदेश फुटबॉल टीम की घोषणा आज होगी
प्रदेश की महिला फुटबॉल टीम का ट्रायल रविवार से शुरू हुआ। पहले दिन बाल भारती स्कूल में ट्रायल का आयोजन किया। इसमें आजमगढ़, गोरखपुर, कानपुर, फैजाबाद, बरेली, बनारस, आगरा, मुरादाबाद, अलीगढ़, गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर की महिला खिलाड़ियों ने भाग लिया। इसमें नोएडा की 11 महिला खिलाड़ी भी शामिल हैं। जिला फुटबॉल संघ के महासचिव वाजिद अली ने बताया कि सोमवार को आखिरी ट्रायल के बाद प्रदेश टीम की संभावित खिलाड़ियों की घोषणा की जाएगी।

Leave a Reply